निर्भया के पिता बद्रीनाथ बोले- उसकी शादी न देख पाने का अफसोस जिंदगी भर रहेगा

नई दिल्ली. फांसी के बाद निर्भया के पिता के चेहरे पर इंसाफ पूरा होने का संतोष तो दिखा, लेकिन फिर भी उनके दिल में एक कसक सी थी. बद्रीनाथ ने आजतक से बातचीत में कहा कि निर्भया को लेकर आम मां-बाप की तरह हमारे भी ढेर सारे सपने थे. लेकिन उसके जाने से हमारे सारे सपने बेमौत मर गए. पिछले 7 साल में उसके साथ जो भी क्राइम हुआ हम उसी में उलझ कर रह गए.

निर्भया के पिता बद्रीनाथ ने कहा कि जिस बच्चे को गोद में पाला उसकी इतनी यादें हैं, उसकी शादी होती, उसका अपना घर होता. लेकिन उसकी तकलीफ के अलावा हमें अब कुछ याद ही नहीं है. मेरी छोटी बहन नानी बन गई है और हम आज भी वहीं खड़े हुए हैं.

निर्भया के पिता ने अपना दुख शेयर करते हुए कहा कि हम कहीं रिश्तेदारी में जाते हैं तो वहां खुशी का माहौल होता है लेकिन हमारी आंखों में आंसू आ जाते हैं. क्योंकि खुशी का वह माहौल देखकर हमें निर्भया की याद आ जाती है. हम वह नहीं बन पाए जो हम बनना चाहते थे. हम अपने पिता का कर्तव्य नहीं निभा पाए. यानी ना हम उसकी शादी कर पाए और ना ही उसके बच्चों को खिलाने का सुख हमें मिल पाया.

बद्रीनाथ बोले- निर्भया ने जाते-जाते कहा था, सबको जिंदा जला देना चाहिए

बद्रीनाथ निर्भया को मिलीं ट्रॉफियों को दिखाते हुए बोले कि पढ़ाई के दौरान उसको यह सब ट्रॉफी मिली थी. उसकी यादों को हम कभी नहीं भुला सकते. निर्भया के साथ उस पल को हम नहीं भुला सकते. जब भी और बच्चियों के साथ बलात्कार की घटना को देखते हैं तो बहुत तकलीफ होती है. हम देखते हैं कि समाज और सिस्टम ने निर्भया से कोई सबक नहीं लिया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Need Help? Contact Me!